शुक्रवार, 21 मई 2010

सफर-ए -मोहब्बत

#####

सफर-ए -मोहब्बत
में
गर
बचाना
चाहते हो
खुद को
फिसलने से
तो
ए हमदम...!!
सूखे
आंसुओं से
भीगी
बेगानियत की
पगडण्डी पर
रखना
कदम
संभल
के हरदम .....!!

2 टिप्‍पणियां:

Deepak Shukla ने कहा…

नमस्कार जी...

जिसे बेगाना कोई समझे,
उस से प्यार न हो सकता..
जिसको अपना माने कोई..
प्यार उसी से हो सकता...

अगर फिसल भी गए कभी तो,
आकर वही संभालेगा ...
गिरने न देगा वो तुमको..
पलकों पे वो बिठा लेगा .

हमेशा की तरह सुन्दर कविता...

दीपक शुक्ल...

अनाम ने कहा…

सूखे आसुओं से भीगी पगडण्डी पर फिसलन - जबाब नहीं