बुधवार, 26 मई 2010

अमृत्व

#####
क्षणों का
मिलन
अपना
कम नहीं
जन्मों  के
सहचर्य
से  ....
अमृत्व
प्राप्ति
को नहीं
चाहिए
घट
भर
अमृत ....

4 टिप्‍पणियां:

Razi Shahab ने कहा…

bahut khoob

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

sateek....

Deepak Shukla ने कहा…

Hi..

Amar nahi sab hona chahen..
Kuchh aise jo marna chahen..
Sahaj, saral path chhod ke kuchh to..
Kathin raah par chalna chahen..

Sundar bhavabivyakti..

DEEPAK..

अनाम ने कहा…

लाजवाब ब्लॉग और बेमिशाल प्रस्तुति