मंगलवार, 16 मार्च 2010

अन्तरंग

छुपी असंख्य तहों के भीतर
मन की दुनिया अन्तरंग में
देख नहीं पाता तू उसको
भटक रहा क्यूँ बहिरंग में

ध्वनि आत्मा की क्षीण सही
पर सच्ची बात बताती है
कर ले शांत विकारों को तू
दिल की आवाज़ बुलाती है

ढूंढ रहा बाहर किसको तू
हर आनंद है स्व मन में
झरना बहता है खुशियों का
उदगम जिसका अंतर्मन में

6 टिप्‍पणियां:

Deepak Shukla ने कहा…

Hi..
Dhundh raha hai bahar tu kya..
Jo kuchh hai antarman main..
Wah kya baat hai..
Sach hai..

Mrugtrushna main bhatke manav..
Man ke andar jhanke na..
Man ke andar gar jhanke to..
To fir aise bhatke na..

Mrudul ahsaas kavita ke bhavon sang..

DEEPAK SHUKLA..

संजय भास्‍कर ने कहा…

सुंदर शब्दों के साथ.... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति....

संजय भास्‍कर ने कहा…

कई रंगों को समेटे एक खूबसूरत भाव दर्शाती बढ़िया कविता...बधाई

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

Avinash Chandra ने कहा…

Bahut bahut badhayee is sundar rachnaa ke liye,,...bahut din se koi mail nahi kar paayin aap...to main blog par hi aa gaya.

मुदिता ने कहा…

Avinash
mera saubhagya ki tum blog par aaye..aur comment bhi diya... mail ka to isa hai ki jab koi rachna mujeh khud lagta hai ki kuchh hat kar hai to main mail kar deti hun.. nari -ek sangini mail kari thi na :).. baaki likhte rehne se pravah bana rehta hai to bas likh deti hun..

shukriya blog padhne ka aur comment dene ka
sneh-
Mudita