शुक्रवार, 12 मार्च 2010

कश्ती

लहरों पर इठलाती चली जा रही थी कश्ती
भंवर था इक ओझल ,बही जा रही थी कश्ती

मगन थी खुद में अनजान थी आगत से
अपने ही आनंद में जिए जा रही थी कश्ती

अनदेखा अनजाना मोड़ आ गया अचानक
भंवर में हतप्रभ सी फंसी जा रही थी कश्ती

खो गया आनंद उसका,रुक गया प्रवाह
चक्रवात में बेबस थमी जा रही थी कश्ती

जोड़ा उसे जो खुद से ,पाया मैंने कि मैं भी
सोचों के इक भंवर में बनी जा रही थी कश्ती

जड़-चेतन का अंतर, होता है किन्तु गहरा
मांझी बिना जड़ता में, बढ़ी जा रही थी कश्ती


ठहरा सका ना मुझको, भंवर कोई अदेखा
करती विचारमंथन मैं ,खेये जा रही थी कश्ती

चेतन है मेरा अवगत,यात्रा के हर भंवर से
पतवार हाथ स्वयं के , सधी जा रही है कश्ती

9 टिप्‍पणियां:

संजय भास्‍कर ने कहा…

हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

संजय भास्‍कर ने कहा…

plz vist my new post

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

Deepak Shukla ने कहा…

Hi..
Kashti jo hai beech bhanwar main..
Khadi, thami si lagti hai..
Beech nadi main kathinayi par..jeevan si ye chalti hai..

Mera saubhagya hai ki aapki Sangita ji ke blog par likhi ek kavita ne yahan ka rasta dikha diya.. Aur mujhe to yahan kavitaon ka ek anchhua khajana sa mila...hai.. Ab etne bade khajane ko dekhne main samay to lagega hi ..

barhal aapki aaj ki kavita ka pravah sukhad hai aur sahaj hai.. Par kashti bhawanr se nikalane par agli post par ek kavita dekhna sukhad rahega..

Dhanyawad..

DEEPAK SHUKLA..

मुदिता ने कहा…

sanjay ji

bahut bahut shukriya gehrayi tak pahunchne ka

Mudita

मुदिता ने कहा…

suman ji

thanks

regards
mudita

मुदिता ने कहा…

Deepak ji,

shukriya itni khoobsurat tippani ke liye ..

ye rachna maine apne likhne ke shuruati daur mein likhi thi jise aaj modify kiya hai..aur tabhi mujeh bhi ehsaas hua tha ki kashti ko bhanwar se nikalne par bhi ek kavita likhni chahiye ..warna ye adhoori hai :)..sukhad laga ye vicharon ka tartamya

koshish karungi jald hi is vichar ko poora karne ki
Regards
Mudita

Vinesh ने कहा…

कश्ती कि यह यात्रा बहुत अनूठी है....अच्छा लगा कविता के आरम्भिक रूप और वर्तमान रूप को पढना ...

Mehaq Jindagi Ki ने कहा…

kashti, manjhi, manjhdaar, bhanvar ki anuthi baaten kahi hai aapne ise marmik rachna men....

manjhdaar men naiyya dube, maanjhi aan bachaye...maanjhi jo naav duboye use kaun bachaye.....magar doobne ka bhi apna anand hai....paar hone se jyada.....kyonki kayiek manjhi par utrane ka bad kashti ko jala dete hain..taki us par fir jane ki koyisambhavna tak na rahe.....isliye hi aapne khud kashti khus manjhi ko chuna hai...

lovely expressions !