सोमवार, 1 मार्च 2010

मुकम्मल

दुनिया सिमट
गयी है या
नज़रों का है
ये गुमां मेरा ...
कोई शै
मुकम्मल
नहीं है
तेरे बिन....
तुझमें
मुकम्मल
हो जाता है
जहाँ मेरा .....

1 टिप्पणी:

संजय भास्‍कर ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन

Sanjay kumar
HARYANA
http://sanjaybhaskar.blogspot.com