रविवार, 22 अगस्त 2010

कसम...(आशु रचना )



कसम ना दो तुम
मुझको कोई
रस्मों को
ना थोपो मुझ पर
सहज हूँ मैं
दिल के रिश्तों में
यकीं तो करके
देखो मुझ पर.....

रस्मों कसमों में
यूँ बंध कर
रिश्ते कब तक
जिन्दा रहते
बंधन में ही
घुट जाते हैं
खुद से
बस शर्मिंदा रहते
स्नेह की
अमृत वर्षा में
भीगो खुद ,
बरसाओ मुझ पर......

खुद पर यकीं
ना होता जिनको
कसमें वो
औरों की खाते
बात का अपनी
वजन बढ़ाने
बाट वे
कसमों के लटकाते
सच को
जब तुम
समझ ना पाते
कसम
बोझ बन जाती मुझ पर......

5 टिप्‍पणियां:

36solutions ने कहा…

सुन्‍दर रचना.

mai... ratnakar ने कहा…

बात का अपनी वजन बढ़ाने
बाट वे कसमों के लटकाते

absolute truth
kafee achchha likha hai

अनाम ने कहा…

bahut hi khubsurat rachna.....
umdaah prastuti...
mere blog par is baar..
पगली है बदली....
http://i555.blogspot.com/

Deepak Shukla ने कहा…

Hi..

Yakin agar na hota usko..
Kya wo sang kabhi aata..
Tere mradu muskaan sang wo..
Nishchhal hansi se hans paata..

Jisko bandhan maan rahe tum..
Wo uske man ka arpan hai..
Gar wo hai adhikaar jatata,
uska tujhse ye samarpan hai..

Sundar bhav..

Deepak..

आपका अख्तर खान अकेला ने कहा…

sch khaa bhn mudritaa ji qsm vsm men kya rkha he jo he voh dil ke rishton men he isiliyen aaj qsmon ke rishton se zyaada dil ke rishte mzbut hen aapne apni rchnaa men zindgi kaa sch ukeraa he bdhayi hoi. akhtar khan akela ktoa rajsthan