शनिवार, 19 फ़रवरी 2011

एकांत अवकाश


###

होती
जिस पल
संग
स्वयं के
मैं
एकांत
अवकाश में ,
ठीक उसी पल
चुपके से
तुम
चुरा ले जाते,
मुझ जोगन को
स्वयं
मुझी से,
सपनो के
आकाश में ....

5 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

akaant se adhik khushnuma hai yah saath, yah ehsaas...

vandan gupta ने कहा…

वाह क्या बात कही है………बहुत ही सुन्दर्।

Anupama Tripathi ने कहा…

बहुत ही सुंदर कोमल सुखद अभिव्यक्ति -
जितनी बार पढ़ा आनंद और बढ़ता चला गया

Deepak Shukla ने कहा…

Hi..

Jisko tum kahti Ekant ho..
Usme hai ekant kahan..
Priyatam tere sang raha hai..
Hai anuraag ka ant kahan..
Khud main tum kho jao chahe..
Par man main wo rahta hai..
Chupke se tandra main aata..
Tere sang vicharta hai..

Kam shabdon main, sumadhur kavita..
Tum to sada hi likhti ho..
Nahi magar tum ek shabd bhi..
Aur kahin bhi likhti ho..

Haha..

Sundar bhav..

Deepak..

विशाल ने कहा…

शब्दों की कंजूसी पर बहुत गहन अनुभूति.
सलाम.