मंगलवार, 1 फ़रवरी 2011

राहत-चाहत

होती है
साथ रहने में
जिसके
लौकिक राहत ...
नहीं होती
क्यूँ
उसके
दिल में
साथ होने की
चाहत ....
पनपती है
साथ उसका
पाने की
चाहत...
मिल जाती है
रूह को
जिससे,
अलौकिक
राहत

5 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

rooh ki rahat pane ki chahat ... alaukik aadaan pradan

नीरज गोस्वामी ने कहा…

अलौकिक चाहत से राहत की बात...वाह...बेजोड़ रचना..
नीरज

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

खुबसुरत भावाभिव्यक्ति........

lotusindia ने कहा…

rooh ki chahat rab jane...kyun ki ruh ko hi ham rab mane....rooh me sammilit ekkar ho gayi hai har ek chah...Paramkrupa parmatma ki mil gayee raah.....!

अनाम ने कहा…

मुदिता जी,

सुन्दर अहसासों से सजी पोस्ट......