रविवार, 12 सितंबर 2010

किनारे.....


######

दो किनारों को
जोड़ती है
संवेदनाओं की
नदी ....
निरन्तर
बहती ,
उमगती ,
उफनती
नदी
घुला लेती है
संवेदनाओं के
जल में
अंश किनारों का...
घुल कर
नदी के जल में
खो कर अपने
पृथक अस्तित्व को
हो जाते हैं एकमेव
वो हमसफ़र ...
कर नहीं सकता
विभाजित उन को
कोई
अब
दांयें या बांयें
किनारे में
और यूँ
मिल जाते हैं
दो किनारे ,
होते हुए
अभी भी
नदी के
दोनों छोर पर
अपने अपने
अस्तित्व के साथ
और
दुनिया कहती है
किनारे कभी मिलते नहीं.....!!!!

3 टिप्‍पणियां:

दीपक बाबा ने कहा…

आपने नयी सवेदनाओ को पहचाना .........

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 14 - 9 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

http://charchamanch.blogspot.com/

उपेन्द्र नाथ ने कहा…

सुन्दर भावाभिव्यकित.......

upendra( www.srijanshikhar.blogspot.com )